Google+ Followers

Google+ Followers

शुक्रवार, 14 अगस्त 2015

वन्देमातरम

 #
"वन्देमातरम"
माँ भारती की वंदना है … वन्देमातरम 
मातृभूमि की प्रदक्षणा है … वन्देमातरम
वन्देमातरम ... वन्देमातरम ...
वन्देमातरम ...
शक्ति का वरदान है … वन्देमातरम 
शस्त्र के समान है … वन्देमातरम
धनुष का बाण है  … वन्देमातरम 
सर्वशक्तिमान है  … वन्देमातरम 
वन्देमातरम ... वन्देमातरम ...
वन्देमातरम ...
सिंह की दहाड़ है  … वन्देमातरम 
वीरता का नाद है  … वन्देमातरम 
क्रांति का प्रमाण है  … वन्देमातरम 
शौर्य का बखान है  … वन्देमातरम
वन्देमातरम ... वन्देमातरम ...
वन्देमातरम ...
जाग्रत प्रण प्राण है  … वन्देमातरम 
केसर तिलक समान है  … वन्देमातरम 
आन बान शान है  … वन्देमातरम 
आत्मसम्मान है  … वन्देमातरम 
वन्देमातरम ... वन्देमातरम ...
वन्देमातरम ...
‪#‎सारस्वत‬
14082015

मंगलवार, 11 अगस्त 2015

ग़म का लिहाफ़ ओढ़ कर

#

ग़म का लिहाफ़ ओढ़ कर ग़म , सुकून की नींद निचोड़ा करते हैं
सपनें आते हैं कुछ खुशियां लेकर , जिन को हम बटोरा करते हैं

नई सुभह के साथ में अंगड़ाई , मुस्कराहट की लेकर उठना तुम
उदासी के दीये को जलने दो , सूर्य किरण पर यही सकोरा करते हैं

टूटी हुई खिड़कियों से कैहदो , चंदन रातों में कोई जौरशौर ना करें
थके हारे झोंके यहां आकर , अक्सर आराम का थोरा करते हैं

कल पूछूंगा तबियत से हाल , कैसी गुजरी रात बरसात के साथ
बेफिक्री से सोना अभी तुम , हम छत टपकने पर कटोरा करते हैं

#सारस्वत
11082015

शनिवार, 1 अगस्त 2015

ब्रह्माण्ड का स्वर ॐ


#
ब्रह्माण्ड का स्वर ॐ है 
आदि अनादि ॐ ही ॐ है 
ॐ प्रकृति है ॐ संस्कृति है 
चेतन अवचेतन ॐ ही ॐ है

ॐ जल है ॐ तल है 
ॐ पवन है ॐ गगन है 
जीव का जी ॐ सजीव निर्जीव है 
सर्वत्र प्रभामंड़ल में ॐ ही ॐ है

ॐ चिंतन है मनन है मंथन है 
ॐ किर्या है कारक है परिवर्तन है 
नव सृजन का घर्षण समर्थन है 
ॐ के सम्बोधन में ॐ ही ॐ है

ॐ साक्ष्य है शिक्षा है समीक्षा है 
ॐ पुण्य है परीक्षा है प्रतीक्षा है 
धैर्य है धर्म है कीर्तन का मर्म है 
सर्वज्ञ सत्य की दीक्षा ॐ ही ॐ है

ॐ सुर है स्वर है ध्वनि है 
ॐ खरल है गरल है अग्नि है 
यज्ञ के उच्च में जग समुच्चय में 
भस्म में वर्तनी में ॐ ही ॐ है

कालखण्ड का काल ॐ है 
पतित पावन नटराजन ॐ हैं 
कणकण में अणु परमाणु में 
सर्वकालिक अनन्तनाद ॐ ही ॐ है 
23052014