Google+ Followers

Google+ Followers

शनिवार, 28 जनवरी 2017

तुम याद आये ...

#
जब भी तन्हाई को चाहा  ... तुम याद आये
कदम जिसभी तरफ बढ़ाया , तुम याद आये
सुने दिल की ख़ातिर  ... सुनेपन में
गुनगुनाना कुछ भी चाहा , तुम याद आये
*
तुमने भुला दिया होगा , अक्सर सोचता हूँ
हमने जब भी भुलाया  ... तुम याद आये
सारे वादे तेरे ,  हर एक इरादे की कसम
हमने ऐसे निभाया के , तुम याद आये
*
इश्क करते हुए 'इश्क,  ने सोचा ना कभी
दिल के हाथों यूँ लूटा , के तुम याद आये
अब छुपाता हूँ , कभी खुद से 'कभी, तुझसे
है धूप के बाद का सफर  औ' तुम याद आये
*
जब भी आये चलके  , छलके मचलके आंसूं
धड़कना भूल गई धड़कने , तुम याद आये
मेरे घर का 'पता, मुझ को भी  ...  तो बता दो
रहता हूँ जिस गैर के दिल में , तुम याद आये
#सारस्वत
28012017 

सोमवार, 9 जनवरी 2017

घबराया ना करो

#
बिठाकर पास हौसले को ...
एकरोज़ समझाया मैंने
जद्दोज़हद का नाम जिंदगी है ..
घबराया ना करो
डर से बड़ा डरावना है ...
डर के साथ डरकर जीना
हिम्मत के साथ दौस्ती करो ...
घबराया ना करो
शंका की आशंका में होता है ...
दहशत का बसेरा
रौशन पर्चियों से घर भर दो ,,,
घबराया ना करो
हाल कितने भी बुरे हो  ...
हालात से लड़ा करते हैं
जीतने की इच्छा रखते हो तो ...
घबराया ना करो
मुश्किलों में कहता है मुझसे  ...
अब हौसला मेरा
कठनाइयों में ' तेरे साथ हूँ मैं ,
घबराया ना करो
#सारस्वत
10012017