Google+ Followers

Google+ Followers

शुक्रवार, 2 जून 2017

बिछुड़ कर अचानक से

#
बिछुड़ कर अचानक से , जब दो दिल मिला करते हैं 
सिले हों लब तो भी , हाले दिल जान लिया करते हैं 
बिछुड़ कर अचानक से , जब दो दिल  ... 

करीब होकर भी रहते हैं , अजनबी सी सूरतें लेकर 
रस्मे अदाएगी के लिए , मुस्कुरा भर दिया करते हैं 
बिछुड़ कर अचानक से , जब दो दिल  ... 

बाद मुद्दत के , मिल कर भी जो फिर मिल नहीं पाते 
गाहे-बगाहे शिकायत निग़ाहों से कर दिया करते हैं 
बिछुड़ कर अचानक से , जब दो दिल  ... 

कभी जो पूछ ही लिया कैसे हो , खुदगर्ज़ लब्जों ने 
ठीक हूँ कह कर अक्सर , बात टाल दिया करते हैं 
बिछुड़ कर अचानक से , जब दो दिल  ... 

धडकनें बोल उठती हैं 'और, लब सिल सिल जाते हैं 
झुकी नज़रें उठकर झुकती हैं तो, सवाल हुआ करते हैं 
बिछुड़ कर अचानक से , जब दो दिल  ... 

#सारस्वत 
02062017